Rajasthan New CM राजस्थान में वसुंधरा राजे नहीं तो बालकनाथ या कोई और ? बीजेपी की ओर से कौन बनेगा

Rajasthan Chief Minister New : राजस्थान विधानसभा चुनाव के सभी रिजल्ट जारी हो गए ही बीजेपी को स्पष्ट बहुमत मिल रहा है. राजस्थान विधानसभा चुनाव में 199 सीटों में से भाजपा को 115 सीटें मिली हैं, जबकि कांग्रेस के हिस्से में 69 सीटें आई हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

राजस्थान के चुनाव में बीजेपी की जीत के साथ ही ये चर्चा शुरू हो गई है कि वसुंधरा राजे नहीं तो कौन सीएम बनेगा? इसे लेकर चर्चा तेज हो गई है. बालकनाथ एग्जिट पोल में सीएम के लिए बीजेपी का सबसे लोकप्रिय चेहरा बनकर उभरे हैं. बालकनाथ के साथ और कौन से नेता हैं राजस्थान सीएम की रेस में?



राजस्थान विधानसभा चुनाव में भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिल गया है। प्रदेश में नये सीएम का शपथग्रहण समारोह 15 दिसंबर को हो सकता है। मुख्यमंत्री का फैसला भाजपा हाईकमान द्वारा के लगाए गए पर्यवेक्षक तय करेंगे।

मुख्यमंत्री की दौड़ में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया के अलावा प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सीपी जोशी, केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल, बाबा बालकनाथ, अश्विनी वैष्णव, गजेन्द्र सिंह शेखावत, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, वरिष्ठ नेता ओम माथुर आदि के नाम शामिल हैं।

वसुंधरा राजे


वसुंधरा राजे राजस्थान में बीजेपी की सबसे कद्दावर नेताओं में से एक हैं. उनका सियासी ग्राफ पूरे प्रदेश में है. राजे का नाम सीएम की रेस में सबसे आगे नजर आ रहा है, लेकिन शीर्ष नेतृत्व के साथ उनके रिश्ते बहुत अच्छे नहीं रहे हैं. ऐसे में वसु्ंधरा राजे को पार्टी क्या फिर से मुख्यमंत्री बनाएगी. इस पर सस्पेंस दिख रहा है, लेकिन जिस तरह से वसुंधरा के गुट के तमाम नेता जीतकर आए हैं, उससे चलते उन्हें इग्नोर करना मुश्किल है.

दीया कुमारी


जयपुर राजघराने से ताल्लुक रखने वालीं दीया कुमारी इस समय राजसमंद से बीजेपी की सांसद हैं. पार्टी ने इन्हें जयपुर की विद्याधरनगर सीट से प्रत्याशी बनाया. इस सीट पर पूर्व सीएम वसुंधरा राजे के करीबी नरपत सिंह राजवी का टिकट काटा गया था. दीया कुमारी को वसुंधरा राजे का विकल्प माना जा रहा है. हालांकि, चुनाव से पहले हुए सर्वे में दीया कुमारी को सीएम पद के तौर पर सिर्फ 3 फीसदी लोगों ने अपनी पसंद बताया था.

अर्जुन राम मेघवाल

अर्जुन राम मेघवाल ऐसे नेता हैं जो आज भी साइकिल से संसद पहुंच जाते हैं। वह अपनी सुचिता के लिए जाने जाते हैं। मोदी सरकार में मंत्री मेघवाल राजस्थान के कद्दावर नेता हैं। 1982 में राजस्थान उद्योग सेवा में चयनित हुए। हरिकशन बादल के स्पेशल डिप्टी एसओडी रहे मेघवाल 2009 में राजनीति कदम रखे। वर्तमान में वह केन्द्रीय जल संसाधन गंगा विकास संसदीय कार्य मंत्री और पूर्व केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री हैं। वे बीकानेर लोकसभा क्षेत्र से सांसद हैं। साल 2009 में मेघवाल बीकानेर निर्वाचन क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर लोकसभा के लिए चुने गए। 2014 में भी वे 16 वीं लोकसभा के लिए बीकानेर से चुने गए। मेघवाल ने 5 जुलाई 2016 को वित्त राज्य मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की।

गजेन्द्र सिंह शेखावत

केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत को भी राजस्थान के सीएम के तौर पर देखा जा रहा है। जोधपुर लोकसभा से सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत की राजस्थान में अच्छी पकड़ है। शेखावत ने खुद चुनाव नहीं लड़ा है। लेकिन माना जा रहा है कि अगर बीजेपी उन्हें सीएम बनाती है तो करणपुर सीट पर होने वाले चुनाव में उन्हें उतारा जा सकता है।

बाबा बालकनाथ


राजस्थान में विधानसभा चुनाव लड़ने वाले बीजेपी सांसद महंत बालकनाथ का नाम भी सीएम रेस में चल रहा है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से तुलना करते हुए उन्हें राजस्थान का योगी बताया जा रहा है. ओबीसी वर्ग से आने वाले महंत बालकनाथ मस्तनाथ मठ के आठवें महंत हैं. पार्टी ने बालकनाथ को तिजारा विधानसभा सीट से चुनाव लड़ाया. चुनाव से पहले NDTV के सर्वे में 13 फीसदी लोगों ने महंत बालकनाथ को बतौर सीएम पसंद किया था. सीएम रेस में वसुंधरा के बाद दूसरे नंबर पर बालकनाथ ही हैं.

प्रदेश में मुख्यमंत्री को लेकर बड़ी खबर

राजस्थान में मोदी के नाम से मिले वोट :

राठौड़ ने कहा कि निश्चित रूप से मैं किरोड़ी लाल मीणा की बात से सहमत हूं. हम वोट लोकप्रिय नेता नरेंद्र मोदी के नाम से लेते हैं. उनकी गरीब सरकार की गरीब कल्याण के नाम से लेते हैं. उनका चेहरा हमारे लिए सबसे बड़ा चेहरा है. राठौड़ ने कहा कि अगर कोई यह सोचे कि मुझे मेरे चेहरे पर वोट मिले हैं, तो उनकी यह गलतफहमी है. वोट तो प्रदेश की जनता ने देश के सबसे लोकप्रिय चेहरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देखकर ही दिए हैं

राजस्थान के नए मुख्यमंत्री का ऐलान हो गया है। सांगानेर से विधायक भजनलाल शर्मा को विधायक दल का नेता चुना गया है। प्रदेश कार्यालय में हुई विधायक दल की बैठक में भाजपा हाईकमान द्वारा तय किए गए नाम का ऐलान किया गया और उस नाम पर सभी की सहमति बन गई। सूत्रों के मुताबिक नए मुख्यमंत्री के नाम का प्रस्ताव वसुंधरा राजे ने ही रखा। भजनलाल शर्मा संघ पृष्ठभूमि से आते हैं। वे मूलतः भरतपुर के रहने वाले हैं। फिलहाल वे प्रदेश महामंत्री के पद पर भी थे।

राजस्थान में रिवाज रहा कायम, पांच साल बाद फिर BJP की सत्ता में वापसी

Next Cm in Rajasthan , Rajasthan CM, Rajasthan Chief Minister, Chief Minister Of Rajasthan