महिलाओं के विरूद्ध अपराध मुक्त ग्राम पंचायत अभियान के नवाचार का शुभारम्भ
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर 34 लोगों का हुआ सम्मान

महिलाओं के विरूद्ध अपराध मुक्त ग्राम पंचायत अभियान के नवाचार का शुभारम्भ
अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर 34 लोगों का हुआ सम्मान

झुंझुनूं 09 मार्च। अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में बुधवार को बालिकाओं एवं महिलाओं के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 34 लोगों को जिला स्तर पर सम्मानित किया गया। जिला प्रशासन एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण तथा महिला अधिकारिता विभाग की ओर से कार्यालय परिसर में आयोजित हुए इंदिरा महिला शक्ति प्रोत्साहन एवं सम्मान योजना के तहत अतिथियों द्वारा इनका सम्मान किया गया। सम्मान समारोह में जिला कलक्टर लक्ष्मण सिंह कुड़ी एवं पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। इस दौरान नवलगढ़ एसडीएम सुमन सोनल, कोषाधिकारी दीपिका सोहू, समाजसेवी राजन चौधरी, महाप्रबंधक योगेश कुमार, एलडीएम रतन लाल वर्मा, सीडीपीओ ज्योति रेपस्वाल, इंदिरा सूरा, नीतू न्यौला अतिथि के रूप में उपस्थित रहे।
जिला कलक्टर लक्ष्मण सिंह कुड़ी ने कहा कि महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए जो जिले में बेहतरीन कार्य हुआ है, उसी की बदौलत जिलेे को राज्य स्तर पर सम्मानित होने का गौरव मिला है। उन्होंने कहा कि बेटियों के क्षेत्र में पहले जिला शमिंर्ंदगी सहन करता था, मगर अब अपनी काबलियत से लगातार प्रथम आना बहुत बड़ी बात है। उन्होंने कहा कि इसी प्रकार जोश के साथ हमें कार्य करना है, ताकि जिला आने वाले समय में राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित होगा। उन्होंने पुलिस विभाग के महिला अपराध मुक्त ग्राम पंचायत अभियान में भी हर संभव मद्द का आश्वासन दिया। पुलिस अधीक्षक प्रदीप मोहन शर्मा ने कहा कि जिले को हर बार प्रथम आने की आदत हो गई है, जो काम की ललक को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के सभी जिलों में चिकित्सा, पुलिस, शिक्षा के क्षेत्र में यहां की महिलाएं अपना परचम लहरा रही है। उन्होंने जिले में नवाचार करते हुए अपील की कि जिले की ऎसी ग्राम पंचायतों को चिन्हित किया जाएगा जहां अभी महिलाओं पर अपराध होने की संख्या अधिक हो। वहां पर जागरूकता कैम्पन चलाकर उनमें सुधार लाया जाएगा और जो ग्राम पंचायत अपराध मुक्त होगी, उसे सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि अपराध को किसी भी सूरत में दबाया नहीं जाएगा, अपराधी को सजा अवश्य मिलेगी। उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा एवं कानूनी संबंधित जानकारी के लिए पुलिस की ओर से संचालित विभिन्न ऎप एवं अभियानों की भी जानकारी दी।
कोषाधिकारी दीपिका सोहू ने बताया कि जिले की महिलाओं ने हर क्षेत्र में अपना परचम लहराया है, जो यह दर्शाता है कि यहां की महिलाआं में आगे बढ़ने की ललक है। उन्होंने बताया कि उनकी काबीलियत ही है जो घर, परिवार और समाज के सफल संचालन के साथ-साथ वे आर्थिक रूप से भी मजबूत बनी है। उन्होंने पुरूषों को भी धन्यवाद देते हुए कहा कि उनकी बदौलत ही महिलाओं के लिए सकारात्मक माहौल बन पाया है। समाजसेवी राजन चौधरी ने कहा कि महिला अधिकारिता विभाग नवाचार में विश्वास रखता है, यही कारण है कि वर्ष 2016 से लगातार विभाग देश और प्रदेश की राजधानी में सम्मान प्राप्त कर रहा है। उन्होंने बताया कि ‘‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ‘‘ अभियान में जिला रोल मॉडल बना है। उन्होंने जिले को बलात्कार एवं शर्म मुक्त करने तथा जेंडर गेप कम करने के संबंध में अभियान चलाने की बात कही।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

महिला अधिकारिता विभाग के उप निदेशक विप्लव न्यौला ने बताया कि लिंगानुपात में यह जिला पहले सबसे निचले पायदान पर रहता था, पहले जिले का लिंगानुपात 837 था, जो 109 अंकों की छलांग से 946 पर पंहुच चुका है। उन्होंने बताया कि विभाग के कार्मिकों द्वारा मासिक रूप से धन राशि का संग्रहण किया जाता है, जिससे जरूरतमंद कार्मिक को आर्थिक संबल प्रदान किया जा सकें। उन्होंने अगले वर्ष तक महिला अपराध मुक्त ग्राम पंचायत का अवार्ड जिले को दिलवाने का भी विश्वास दिलवाया। इस दौरान अतिथियों की ओर से मुखबीर योजना के पोस्टर का विमोचन किया गया। सीडीपीओ ज्योति रेपस्वाल ने अतिथियों तथा उपस्थित महिलाओं को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की शपथ दिलवाई। उप निदेशक विजेन्द्र सिंह राठौड़ ने धन्यवाद ज्ञापित किया। संचालन उषा कुलहरी ने किया।

इनका हुआ सम्मान : विभाग के उप निदेशक विप्लव न्यौला ने बताया कि सम्मान समारोह के दौरान नवलगढ़ उपखण्ड अधिकारी सुमन सोनल, उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी नरोत्तम जांगिड़, शिक्षित रोजगार केन्द्र प्रबंधक समिति, जिला पर्यावरण सुधार समिति, कौशल एवं उद्यमिता विकास संस्थान अम्बुजा सीमेन्ट फाउण्डेशन, समाजसेवी अरविन्द कुमार, पूजा शर्मा, बिरला सार्वजनिक अस्पताल के डॉ. मधुसुदन मालानी, सुभिता सीगड़, साथिन आसिया प्रवीण, कार्यकर्ता चंदा देवी, आशा सहयोगिनी रेखा शर्मा, सहायिका संतोष कंवर, वरिष्ठ व्याख्याता प्रतिभा, कनिष्ट विशेषज्ञ संदीप पचार, समाजसेवी संदीप पारीक, केनरा बैंक के सुरेन्द्र स्वामी, बीआरकेजीबी के सुभाष चंद दरिया, विकास कुमार, श्रवण माथुर, संदीप कुमार, राकेश शर्मा, पल्लवी, सुभिता बुगालिया, नीतू कुमारी, रामपुरा की शिमला कुमारी, सुपरवाईजर रतना, सुनिता, शर्मिला, पूजा, पूजा सामोता का सम्मान किया गया। कवि हरिश हिन्दुस्तानी को मातृ शक्ति गौरव सम्मान से नवाजा गया। इस दौरान विभिन्न आयोजनों पर रंगोली बनाने वाली झुंझुनू की टीम को सम्मानित किया गया। समारोह के दौरान सुनिता, रेखा, सरिता, अंकिता, विधा सहित अन्य कार्मिक उपस्थित रहे।