जिला कलेक्टर डॉ. खुशाल पहुंचे बीडीके अस्पताल: बोतलबंद पानी को देखकर कहा- इसका मतलब वाटर कूलर काम नहीं कर रहे

जिला कलेक्टर डॉ. खुशाल ने बीडीके अस्पताल का देर शाम किया औचक निरीक्षण

अस्पताल में बिक रहे बोतलबंद पानी को देखकर कहा- इसका मतलब वाटर कूलर काम नहीं कर रहे अस्पताल के

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

मेडिकल कॉलेज से संबद्ध हॉस्पिटल की कार्ययोजना का लिया जायजा

1 घंटे में हर कोने का किया बारीकी से निरीक्षण

बिखरी निर्माण सामग्री को हटाने के दिए निर्देश

झुंझुनूं जिला कलेक्टर डॉ. खुशाल ने मंगलवार देर शाम राजकीय बीडीके अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने अस्पताल में बनने वाले ट्रोमा सेंटर की जगह चिन्हीकरण के बारे में कहा कि यह अधिक स्पेस वाला हो, ताकि सामूहिक दुर्घटना जैसी स्थितियों में भी कोई परेशान नहीं हो। करीब 1 घंटे के अपने निरीक्षण में उन्होंने अस्पताल के हर कोने का बारीकी से निरीक्षण किया। जिला कलेक्टर डॉ. खुशाल ने पीएमओ डॉ. कमलेश झाझड़िया से निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज की स्थिति की जानकारी ली। जिला कलक्टर ने प्रस्तावित पुलिस चौकी, कैफेटेरिया, सुलभ शौचालय की जगह चिन्हीकरण के बारे में भी जानकारी ली।

जिला कलेक्टर ने कंडम पड़े वाहनों को भी शीघ्र निस्तारित करने के निर्देश दिए। वहीं अस्पताल में मेडिकल कॉलेज से संबद्ध अस्पताल के निर्माण और विभिन्न निर्माण कार्यों के चलते अस्पताल में बिखरी निर्माण सामग्री को तुरंत हटवाने के निर्देश दिए ताकि अस्पताल में रोगियों और उनके परिजनों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं हो। जिला कलेक्टर डॉ. खुशाल कोविड वेक्सीनेशन सेंटर के पास टूटी रैंप और चौकी को तुरंत दुरूस्त करवाने के निर्देश दिए। जिला कलेक्टर ने अस्पताल में संचालित इंदिरा रसाई का निरीक्षण करते हुए वहां भोजन की गुणवत्ता जांची और खाना खा रहे लोगों से भी संवाद किया।

इस दौरान अस्पताल में बिक रहे बोतलबंद पानी पर डॉ. खुशाल की नजर पड़ी तो उन्होंने कहा कि ‘‘अस्पताल में पानी बिकने का मतलब है कि यहां वाटरकूलर ठीक से काम नहीं कर रहे।’’ इस पर पीएमओ डॉ. कमलेश झाझड़िया ने वाटरकूलर संबंधी व्यवस्थाएं और अधिक दुरूस्त एवं बेहतर करने की बात कही और बताया कि इसके लिए भामाशाहों का सहयोग लिया जा रहा है।

जिला कलक्टर ने प्याऊ पर साफ-सफाई और हाथ धोने के लिए हैंडवॉश या साबुन इत्यादि रखने के निर्देश भी दिए। वहीं अस्पताल परिसर में जिला कलक्टर ने राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के पुराने पड़ चुके पोस्टर्स को बदलकर नए पोस्टर्स व हॉर्डिंग्स लगवाने के निर्देश दिए। डॉ. खुशाल ने अस्पताल के चाईल्ड वैक्सीनेशन रूम के दरवाजे पर रोगियों द्वारा थूकी गई पीक को साफ करवाने के निर्देश देते हुए साफ-सफाई और मातृ एवं शिशु केंद्र के पास बनी पानी की टंकी को टिनशैड से कवर करने के भी निर्देश दिए।

गार्डन की तारीफ की, चिकित्सकों से मांगे सुझाव:

जिला कलक्टर ने अस्पताल के अंदर विकसित किए गए गार्डन की तारीफ करते हुए पीएमओ डॉ. कमलेश झाझड़िया की पीठ थपथपाई। उन्होंने मेडिकल कॉलेज से संबंद्ध अस्पताल के सामने बनने वाले गार्डन की जगह की भी जानकारी ली। उन्होंने वहां मौजूद चिकित्सकों से भी संवाद करते हुए उनसे सुझाव मांगे।

डॉ. संबंद्ध अस्पताल के बिल्डिंग प्लान और एसएमएस अस्पताल और एम्स के बिल्डिंग प्लान की तुलना करने को भी कहा, ताकि जिले को बेहतर सुविधाएं मिल सकें। उन्होंने सभी चिकित्सकों से कहा कि कोई भी चिकित्सक या कर्मचारी अपने उचित सुझाव निश्चिंत होकर दे सकता है। इस दौरान डॉ. कैलाश राहड़, जिला पीआरओ हिमांशु सिंह, डॉ. नावेद, सहायक अभियंता सीमा आदि साथ रहे।