वीर सपूत कल्याणसिंह ने मातृभूमि की रक्षा करते हुए वीरगति को प्राप्त

सुरजनपुरा के वीर सपूत कल्याणसिंह ने मातृभूमि की रक्षा करते हुए वीरगति को प्राप्त

नवलगढ़। निकटवर्ती गांव सुरजनपुरा के कमान्डेंट कल्याण सिंह शेखावत ड्यूटी के दौरान हुए वीरगति को प्राप्त। जिनके मुंह में इसी वर्ष छाला हुआ था, जिसे डॉक्टर्स ने कैंसर घोषित कर दिया था। उसी से लड़ते सोमवार दोपहर को जंग हार गए। कमान्डेंट कल्याण सिंह का श्री बालाजी एक्शन कैंसर अस्पताल पश्चिम विहार दिल्ली में उपचार चल रहा था जहां पर उन्होंने अंतिम सांस ली।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

कल्याण सिंह नवलगढ़ तहसील के सुरजनपुरा गांव के रहने वाले थे। जो 238 सीआरपीएफ में पोस्टेड दिल्ली में थे। 1988 में सब इंस्पेक्टर पद पर भर्ती हुए। फिलहाल कमान्डेंट पद पर कार्यरत थे। 1991 में रसीदपुरा (नागोर) निवासी श्रीमती राज कंवर पुत्री स्वर्गीय सूबेदार भोमसिंह राठौड़ से शादी हुई थी। कल्याण सिंह का ससुराल पक्ष से सभी देश की सेवा में अपनी भागीदारी निभा रहे हैं।

कल्याण सिंह 2007 में सीआरपीएफ के ऑपरेशन के तहत लाल चोक श्रीनगर में एक साथ चार मिलिटेंट्स खत्म किया था जिसके कारण उसे पीपीएमजी अवार्ड (राष्ट्रपति वीरता पुलिस पदक) से सम्मानित राष्ट्रपति द्वारा हुए थे। उसी दिन बड़े बेटे का आकस्मिक निधन हो गया था। फिर भी देश के लिए जोश जज्बा से मातृभूमि की रक्षा की। कमान्डेंट कल्याण सिंह शेखावत का परिवार दिल्ली साथ ही रहता था। शेखावत के पिता भी देश के लिए सेवा दी है। सेवानिवृत के बाद मोहर हॉस्पिटल नवलगढ़ में कार्य किया और माता गृहणी है। ये तीन भाई है जिनमे सबसे छोटे थे। सबसे बड़े किशोरसिंह शेखावत जो प्राइवेट कंपनी में बतौर मैनेजर है। दूसरे नम्बर पर करणीसिंह शेखावत जो CI के पद पर भिवाड़ी कार्यरत हैं। सबसे छोटे कल्याण सिंह शेखावत जिन्हे शुरू से आर्मी का जुनून था जो की सीआरपीएफ में बतौर सब इंस्पेक्टर के पद पर भर्ती हुए और कमांडेंट की पोस्ट तक पहुंचे। बड़ी पुत्री ज्योति कंवर जिन्होंने बी कॉम और एम ए तक पढ़ाई की हुई है और उनकी हो गई है उनसे छोटा पुत्र राघवेन्द्र सिंह शेखावत जो अभी ग्रेजुएशन फाइनल ईयर में पढ़ाई कर रहा है। कल्याण सिंह के निधन की बात गांव में फैलते ही सन्नाटा छा गया। दिल्ली में सैन्य सम्मान के साथ सलामी दी गई उसके बाद सीआरपीएफ के जवान और परिवारजन के साथ उनके गांव के लिए रवाना किया गया। और उनके पैतृक गांव में मंगलवार सुबह उदयपुरवाटी से सुरजनपुरा तक तिरंगा रैली निकाली जाएंगी। कमान्डेंट कल्याण सिंह का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।