Rajendra Gudha गुढ़ा के बंगले पर पहुंची पुलिस:नाबालिग से रेप के मामले में सीसीटीवी खंगाले

गुढ़ा के बंगले पर पहुंची जोधपुर पुलिस:नाबालिग से रेप के मामले में सीसीटीवी खंगाले; एसपी बोले- अभी कुछ स्पष्ट नहीं

जयपुर । नाबालिग से रेप के मामले में जांच करने के लिए जोधपुर पुलिस गुरुवार सुबह बर्खास्त मंत्री राजेंद्र गुढ़ा के बंगले पर पहुंची। पुलिस ने बंगले पर सीसीटीवी फुटेज खंगाले और वहां मौजूद कर्मचारियों से पूछताछ की।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

पुलिस सूत्रों के मुताबिक जोधपुर के पीपाड़ सिटी थाने में एक नाबालिग ने कुछ लोगों पर रेप का आरोप लगाते हुए कहा था कि गुढ़ा के बंगले पर भी उसके साथ ज्यादती हुई।

🔥 झुंझुनूं जिले में फ्री मोबाइल पाने वालो की ग्रामीण और शहरी लिस्ट, यहां से देखे झुंझुनूं जिले में 86162 महिलाओं को मिलेगा मोबाइल फोन 🔥

सीसीटीवी की पड़ताल के बाद पुलिस टीम वहां से रवाना हो चुकी है। जिस समय पुलिस जांच के लिए बंगले पर पहुंची उस वक्त गुढ़ा वहां नहीं थे। पुलिस सूत्रों के मुताबिक गुढ़ा के सरकारी बंगले के परिसर में बने एक गार्ड रूम में उस लड़की को रखा गया था। पुलिस ने उस गार्ड रूम के सीसीटीवी और बंगले के गेट के सीसीटीवी की जांच की है।

पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि नाबालिग को गुढ़ा बंगले पर लाया गया था या नहीं। हालांकि जोधपुर एसपी धर्मेंद्र सिंह यादव ने कहा कि पॉक्सो एक्ट के मामले में दो आरोपी पुलिस हिरासत में है, जांच के लिए आरोपियों के साथ पुलिस जयपुर गई थी। हमें यह पता चला था कि एक घटनास्थल जयपुर का है

आरोपियों से पूछताछ की तो पता चला विधायक के घर रुके थे

इस मामले में 30 जुलाई को मुरलीधर व्यास कॉलोनी निवासी अशोक विश्नोई (23) और बगला नगर निवासी मेघराज जाट (23) को गिरफ्तार किया था। दोनों आरोपियों और पीड़िताओं से पूछताछ की तो पता चला कि इन्हें नागौर से जयपुर ले गए थे।

जयपुर में बर्खास्त मंत्री राजेंद्र गुढ़ा के सरकारी आवास में एक शेल्टर होम बना हुआ है। जहां बाहर से आने वाले लोगों के ठहरने की व्यवस्था की गई है। आरोपी दोनों पीड़िताओं को इसी शेल्टर होम में लेकर आए थे।

गहलोत खेमे से अनबन के बाद ही परिवार को निजी मकान में शिफ्ट कर चुके

गुढ़ा का परिवार अस्पताल रोड वाले बंगले पर नहीं रहता है। गुढ़ा ने कहा था कि डेढ़ साल पहले सीएम अशोक गहलोत खेमे से अनबन के बाद ही परिवार को निजी मकान में शिफ्ट कर दिया था। इस बंगले पर गुढ़ा जनसुनवाई करते हैं और यहां एसएमएस अस्पताल में इलाज के लिए आने वाले उनके क्षेत्र के लिए लोग रुकते हैं।