शहीद सूबेदार तेजपाल सिंह राठौड़ का राजकीय सम्मान के साथ पार्थिव देह पंचतत्व में विलीन

चांदगोठी के शहीद सूबेदार तेजपाल सिंह राठौड़ का राजकीय सम्मान के साथ पार्थिव देह का किया अंतिम संस्कार, शव यात्रा में उमड़ा जन सैलाब, लगाए देशभक्ति के नारे

भारतीय सेना में कार्यरत चांदगोठी निवासी सूबेदार तेजपाल सिंह राठौड़ पुत्र स्वर्गीय भागीरथ सिंह राठौड़ धुलंडी के दिन श्रीनगर के बड़गांव में अंतिम सांस ली, जिनका अंतिम संस्कार पैतृक गांव चांदगोठी में पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ किया गया। सूबेदार तेजपाल सिंह राठौड़ की पार्थिव देह श्रीनगर से पहले बीकानेर और बाद में बीकानेर से सेना की विशेष टुकड़ी के साथ सेना के वाहन में उनके गांव चांदगोठी लाई गई।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

अंतिम सरकार में पहुंची सादुलपुर विधायक कृष्णा पूनिया।

देशभक्ति के नारों से गूंज उठा चांदगोठी: शहीद की पार्थिव देह गांव में पहुंचते ही वंदे मातरम भारत माता की जय के नारों के साथ चांदगोठी गांव गूंज उठा। वहां मौजूद हजारों की भीड़ एक साथ देशभक्ति के नारे लगा रही थी। अंतिम संस्कार के लिए ले जाए जाते वक्त शहीद के पार्थिव देह पर जगह-जगह पुष्प वर्षा की गई।

विधायक कृष्णा पूनिया ने भी दी श्रद्धांजलि: सादुलपुर विधायक कृष्णा पूनिया भी श्रद्धांजलि देने आज चांदगोठी पहुंचीं और शहीद को पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दीं। पूर्व विधायक मनोज सिंह न्यांगली भी श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। बाद में अन्त्येष्टी स्थल पर शहीद के पुत्र मोनू सिंह राठौड़ ने उन्हें मुखाग्नी दीं। इससे पहले साथ आई सेना की टुकड़ी ने शहीद सूबेदार को गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया।

24 साल तक रहे देश की सेवा में थे: सूबेदार तेजपाल सिंह भारतीय सेना की 53 राजपूत रेजीमेंट में सेवारत थे। दिसम्बर 1997 में देश सेवा के जज्बे के साथ वे सेना में भर्ती हुए थे और मातृभूमि की सेवा करते हुए ही कल हृदयाघात की वजह से उनका निधन हो गया। शहीद राठौड़ मृत्यु से पूर्व लगभग 24 वर्ष तक सेना में सेवारत रहे। उनके परिवार में उनकी माताजी, धर्म पत्नी,और 2 पुत्र सहित छोटा भाई व उनका परिवार है।

3 महीने पहले बहनोई भी हुए थे शहीद: सूबेदार तेजपाल सिंह के बहनोई सुजान सिंह नरूका भी 3 महीने पहले नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहीद हो गए थे। तेजपाल सिंह तब अपने जीजा के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए गांव आए थे और उसके बाद वापस ड्यूटी पर चले गए थे, जहां के दिन हृदयाघात से उनका निधन हो गया।