Jhunjhunu News | Car Accident | फिल्मी स्टाइल में हवा में उड़ी कार, तारों से टकराकर खाई में गिरी…

फिल्मी स्टाइल में हवा में उड़ी कार, तारों से टकराकर खाई में गिरी, चालक को देख हक्का-बक्का रह गए लोग

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

सीकर जिले के श्रीमाधोपुर कस्बे में गुरुवार सुबह अनियंत्रित हुई एक कार दिशासूचक बोर्ड से टकराकर फिल्मी स्टाइल में हवा में उछलते हुए बिजली के तारों को छू गई। इसके बाद पोल से टकराते हुए खाई में गिर गई। गनीमत घटना के वक्त बिजली की लाइन कटी हुई थी। कार के एयरबैग भी समय पर खुल गए। इससे चालक के खरोंच तक नहीं आई। हादसा बाईपास रोड पर हावड़ा मोड़ के पास हुआ। जिसे देख एकबारगी तो प्रत्यक्षदर्शियों की सांसे थम गई। बाद में चालक को सकुशल देख अचरज के साथ लोगों ने चैन की सांस ली।

झुंझुनूं के खेतड़ी तहसील के मेहाडा गांव निवासी कार चालक रघुवीर सिंह ने बताया कि वह सुबह अपने गांव जाने के लिए सुबह जयपुर से रवाना हुआ था। इसी बीच श्रीमाधोपुर में बाईपास रोड पर घुमाव पर कार अनियंत्रित होकर दिशासूचक बोर्ड से टकरा गई। इससे कार हवा में उछलते हुए बिजली के पोल व तारों से टकराते हुए खाई में गिर गई। इसी वक्त कार का एयरबैग खुल गया। जिससे हादसे में उसे कोई चोट नहीं आई। घटना के बाद पुलिस ने मौका मुआयना कर जांच शुरू की।

11 हजार केवी की थी लाइन, बंद होने से टला हादसा हादसे में कार जिस पोल से टकराई वह 11 हजार केवी पोल का था। गनीमत से बिजली की लाइन कटी हुई होने से उसमें करंट नहीं था। वरना पोल के तारों के टकराने से ही बड़ा हादसा हो सकता था। घटना के बाद बिजली निगम के अधिकारी व कर्मचारी भी मौके पर पहुंचे। जिन्होंने चालक से वार्ता के साथ पोल की मरम्मत का काम शुरू किया।

हादसे के बाद मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। जिन्होंने हावड़ा मोड़ को हादसों का केंद्र बनना बताते हुए रास्ते में सुधार की मांग की। पार्षद राकेश ढोला व ने बताया कि हावड़ा मोड़ से आगे शिव धर्म कांटे के पास बाईपास रोड पर दो खड़े घुमाव हैं। जहां दुर्घटनाएं आम हो गई है।

प्रशासन के सहयोग से इन घुमावों पर पहले बैरिकेड लगाए गए थे लेकिन वे फिर हटा दिए गए। पार्षद ने कहा कि हावड़ा मोड चौराहे से आगे एक स्पीड ब्रेकर बनाने की दरकार है। सुभाष बिजारणिया ने बताया कि हावड़ा मोड़ से एक निजी कॉलेज का रास्ता जाता है व दोनों घुमाओ के आगे फिर एक निजी विद्यालय है। जहां बच्चों व वाहनों की आवाजाही रहती है। ऐसे में इस रास्ते पर दो से तीन स्पीड ब्रेकर होने चाहिए।