Headlines

Mahadev Betting App : महादेव बेटिंग ऐप का मालिक रवि उप्पल गिरफ्तार

Mahadev Online Betting App : ऑनलाइन सट्टेबाजी ऐप महादेव के मामले में भारतीय एजेंसियों को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. महादेव बेटिंग ऐप केस में इसके सह संस्थापक रवि उप्पल(Ravi uppal) को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से गिरफ्तार कर लिया गया है.

मामले में रवि उप्पल के अलावा दो अन्य लोगों को हिरासत में लिया गया है. इंटरपोल ने रवि उप्पल के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था.


इसी रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर उसे गिरफ्तार किया गया है. इसके साथ ही भारतीय एजेंसियां दुबई सुरक्षा एजेंसियों के साथ संपर्क बनाए हुए हैं. रवि उप्पल महादेव ऐप मामले के मुख्य आरोपियों में से एक है. उसे जल्द ही डिपोर्ट किया जाएगा. वहीं, महादेव ऐप के दूसरे प्रमोटर और आरोपी सौरभ चंद्राकर की गिरफ्तारी के प्रयास भी जारी हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

महादेव ऑनलाइन बेटिंग ऐप को रवि उप्पल ने अपने साथी सौरभ चंद्राकर के साथ शुरू किया था। करीब दो महीने पहले महादेव ऑनलाइन सट्टेबाजी ऐप केस में मुंबई, कोलकाता और भोपाल में करीब 39 ठिकानों पर छापेमारी कर 417 करोड़ की संपत्ति जब्त की थी। केंद्र सरकार ने 1 महीने पहले ही महादेव सट्टेबाजी ऐप समेत 22 अवैध सट्टेबाजी ऐप्स और वेबसाइट को ब्लॉक कर दिया था।

City Physiotherapy center Jhunjhunu

मुंबई पुलिस ने करीब 15 हजार करोड़ रुपये के धोखाधड़ी मामले में महादेव सट्टेबाजी ऐप के प्रमोटर समेत 32 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। माटुंगा पुलिस अधिकारी के अनुसार, ऐप प्रमोटर सौरभ चंद्राकर और मुख्य आरोपी रवि उप्पल, शुभम सोनी और अन्य के खिलाफ 2019 से धोखाधड़ी के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई थी।

कौन है रवि उप्पलः रवि उप्पल और सौरभ चंद्राकर महादेव सट्टा किंग के सरगना हैं. दोनों देश से भाग कर विदेश में डेरा जमाए हुए हैं. दोनों के खिलाफ ईडी ने अरेस्ट वारेंट जारी किया हुआ है. इस अरेस्ट वारंट के आधार पर ईडी ने इंटरपोल से संपर्क किया. उप्पल और चंद्राकर के खिलाफ ईडी ने रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया है. जिसके आधार पर दुबई पुलिस ने रवि उप्पल को गिरफ्तार किया. अब जल्द उसे भारत लाया जाएगा. सट्टा किंग का मुख्य सरगना सौरभ चंद्राकर अब भी फरार है. दोनों के खिलाफ छत्तीसगढ़ पुलिस ने लुक आउट सर्कुलर भी जारी किया था.

देश में फैलाया सट्टा का कारोबार :

आरोपी सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल छत्तीसगढ़ के भिलाई के रहने वाले हैं. दोनों ने महादेव एप के जरिए दुर्ग भिलाई में सट्टे का काम शुरू किया. जिसे धीरे धीरे पूरे देश में फैलाया. इसके बाद बेरोजगारों को नौकरी देने के नाम पर करोड़ों की काली कमाई लेकर दुबई शिफ्ट हो गया. दुबई से ही दोनों सट्टा के कारोबार को ऑपरेट करने लगे. बीते दिनों ईडी ने चंद्रभूषण वर्मा, सतीश चंद्राकर, अनिल दमानी और सुनील दमानी को गिरफ्तार किया था. ये चारों हवाला के जरिए पैसा ट्रांसफर करते थे.

महादेव सट्टा एप बैनः छत्तीसगढ़ में पहले चरण के चुनाव से पहले 5 नवंबर को केंद्र सरकार ने महादेव ऐप सहित 22 ऐप को बंद कर दिया था. केंद्र ने ईडी की अपील पर ये कार्रवाई की. इसमें रेड्डी अन्ना प्रिस्टोप्रो सहित 22 अवैध एप शामिल हैं.