Headlines

Rajasthan Exit Poll 2023 Live : राजस्थान में इस बार किसकी सरकार? एग्जिट पोल के आंकड़ों में हुआ सब कुछ साफ

Exit Poll live updates: राजस्थान में 25 नवंबर को 199 विधानसभा सीटों के लिए 75.45 प्रतिशत वोटिंग हुई थी. जबकि 2018 में राज्य में 74.71 प्रतिशत मतदान हुआ था. राजस्थान की सत्ता पर कौन राज करेगा

इसका फैसला 3 दिसंबर यानी रविवार को होगा. लेकिन आज विधानसभा चुनाव के एग्जिट पोल के नतीजे आएंगे. इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया का एग्जिट पोल सबसे सटीक, सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय माना जाता है. एग्जिट पोल से चुनावी नतीजों की एक तस्वीर पता चलती है.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

किसको कितनी सीटें


राजस्थान में एग्जिट पोल के मुताबिक इस बार राजस्थान से कांग्रेस की विदाई हो सकती है और बीजेपी एक बार फिर सत्ता में वापसी कर सकती है. एग्जिट पोल के आंकड़ों के मुताबिक प्रदेश की 199 सीटों में से 94 में से 114 सीटें बीजेपी के खाते में आ सकती हैं. वहीं कांग्रेस को 71 से 91 सीटें मिल सकती हैं, जबकि अन्य के हिस्से नौ से 19 सीटें आ सकती हैं.

2018 के एग्जिट पोल और वास्तविकता


पांच साल पहले 2018 के विधानसभा चुनाव में राजस्थान की जनता ने कांग्रेस को भी पूरा बहुमत नहीं दिया था। 200 में से 99 सीटें कांग्रेस को मिली थी। जबकि चार प्रमुख एग्जिट पोल टाइम्स नाऊ सीएनएक्स, एक्सिस माय इंडिया, न्यूज एक्स और सी वोटर के एग्जिट पोल में कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत बताया गया था।

राज्यों का एग्जिट पोल:पहले रुझान में मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस, राजस्थान में भाजपा बहुमत के करीब।

राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम की वोटिंग पूरी हो चुकी है। रिजल्ट 3 दिसंबर को घोषित होंगे, लेकिन उससे पहले एग्जिट पोल।

झुंझुनूं न्यूज: एग्जिट पोल के मुताबिक, मध्य प्रदेश में भाजपा को 106-116, कांग्रेस को 111-121 और अन्य को 6 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। राज्य में 230 सीटें हैं। यहां बहुमत के लिए 116 सीटों की जरूरत है।

एक्सिस इंडिया के एग्जिट पोल में छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को 40-50, भाजपा 36-46 और अन्य को 1 से 5 सीटें दी हैं। राज्य में कुल 90 सीटें हैं। यहां बहुमत का आंकड़ा 46 है।

जन की बात के एग्जिट पोल में राजस्थान में भाजपा को 100-122, कांग्रेस को 62 से 85, अन्य को एक भी सीट नहीं दी गई है। राज्य में कुल 200 सीटें हैं। यहां सरकार बनाने के लिए 101 सीटों की जरूरत है।

City Physiotherapy Jhunjhunu

पिलानी सीट पर कांग्रेस की पितराम काला ने पूरी शिद्दत के साथ चुनाव मैदान में मौजूदगी दर्ज कराई है.यहां ओला परिवार का वजूद भी कांग्रेस को लाभ दे रहा है.भाजपा के बागी कैलाश मेघवाल ने पार्टी के जीत के सपने को सपना ही रख दिया है!

सूरजगढ़ से निवर्तमान विधायक सुभाष पूनिया की टिकट काटकर भाजपा ने संतोष अहलावत को टिकट तो दे दी पर एक दूसरे प्रबल दावेदार सतीश गजराज को नाराजगी भी पैदा कर दी.ऐसे में बैठे बैठाये जीत का गोल कांग्रेस के पक्ष में कर दिया. मतलब श्रवण कुमार जीत रहे हैं.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उदयपुरवाटी की जनसभा में अपने आप को “राजस्थान का माली” की संज्ञा देकर कांग्रेस प्रत्याशी भगवान राम सैनी को चुनावी मुकाबले में खङा कर दिया.भाजपा के शुभकरण चौधरी से टक्कर के चलते “लाल डायरी” तीसरे खाने में है.

खेतड़ी सीट पर हाथी की मतवाली चाल ने कांग्रेस को तीसरे स्थान पर दखेल दिया है,ऐसा पूर्वानुमान है.कांग्रेस और भाजपा के उम्मीदवारों की आपसी पारिवारिक लड़ाई से चाचा भतीजी को चुनाव मैदान से बाहर करता नजर आ रहा है.

नवलगढ़ सीट पर कांग्रेस के राजकुमार शर्मा पूरी तरह जातीय गणित के चक्रव्यूह में फंस गये है. जिसके सबब भाजपा के विक्रम जाखल जीत के रथ पर सवार है.कोई चमत्कारी ही परिणाम को बदल सकता है अन्यथा इस बार तो कमल खिल ही गया.

झुंझुनूं सीट का परिणाम भाजपा के पुराने प्रतिद्वंदियों ने पहले से तय कर दिया है.भाजपा के निषित चौधरी और निर्दलीय राजेंद्र भामू के बीच की पुरानी अदावत से कांग्रेस के बृजेंद्र ओला की लाटरी खुल रही है.

मंडावा विधानसभा सीट पर पीएम नरेंद्र मोदी का सांसदों को चुनाव लङाने का फैसला गलत साबित होता नजर आ रहा है.कांग्रेस की रीटा चौधरी कामकाज के दम पर पुन: विधानसभा की चौखट पर पहुंच रही है.झुंझुनूं सांसद नरेंद्र कुमार यहां भाजपा प्रत्याशी है.

कृपया पूर्वानुमान है इसलिए इसी तरह देखें। परिणाम 3 दिसंबर के दिन ही पता लगेगा।

चुनावों के ओपिनियन पोल्स या पूर्वानुमान के लिए झुंझुनूं न्यूज किसी भी तरह जिम्मेदार नहीं है।

राजस्थान विधानसभा आम चुनाव- 2023 —मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने की मतगणना को लेकर तैयारियों की समीक्षा 199 विधानसभा क्षेत्रों के लिए 36 मतगणना केंद्रों पर 1121 एआरओ की ड्यूटी सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर तैनात रहेगी सीएपीएफ और आरएसी की 175 कम्पनियां

जयपुर 30 नवम्बर। मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री प्रवीण गुप्ता ने कहा कि राजस्थान विधानसभा चुनाव-2023 की मतगणना के लिए मतगणना केंद्रों पर माकूल व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई हैं। उन्होंने बताया कि 3 दिसम्बर को सुबह 8 बजे से सभी केंद्रों पर पोस्टल बैलेट और 8.30 बजे से ईवीएम के माध्यम से मतगणना आरंभ हो जाएगी। उन्होंने बताया कि 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए सभी 36 केंद्रों पर मतगणना के लिए 1121 एआरओ की ड्यूटी लगाई गई है। जयपुर, जोधपुर एवं नागौर में दो-दो केंद्रों पर और शेष 30 निर्वाचन जिलों में एक-एक केंद्र पर वोटों की गिनती की जाएगी।
श्री गुप्ता ने बताया कि 51890 मतदान केन्द्रों पर ईवीएम में प्राप्त मतों की गणना के लिए मतगणना केन्द्रों पर 2524 टेबल लगाई गई है। इनमें कुल 4245 राउंड में मतों की गिनती का कार्य पूरा होगा। शिव विधानसभा क्षेत्र के लिए मतगणना सर्वाधिक 41 राउंड तक चलेगी, जबकि अजमेर दक्षिण के लिए मतगणना 14 राउंड में ही पूरी हो जाएगी।

उन्होंने बताया कि मतगणना स्थल और उसके आस-पास के क्षेत्र में सुरक्षा के पुख्ता इंतजामात किए गए हैं। मतगणना प्रक्रिया के दौरान सुरक्षा इंतजामों के अंतर्गत केन्द्रीय पुलिस बल और आरएएसी की व्यापक तैनाती की जाएगी। उन्होंने बताया कि मतगणना स्थल पर प्रवेश के लिए त्रि-स्तरीय सुरक्षा की व्यवस्था की गई है ताकि मतगणना स्थल पर किसी तरह का कोई व्यवधान नहीं आए।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि केन्द्रीय पुलिस बलों की 40 कम्पनियां ईवीएम की सुरक्षा के लिए और आरएसी की 36 कम्पनियां मतगणना केन्द्रों पर तैनात रहेंगी। आरएएसी की 99 कम्पनियां विभिन्न जिलों में कानून-व्यवस्था के मद्देनजर तैनात की जाएंगी।

इन चुनावों में कुल 4 लाख 36 हजार 664 मतदाताओं ने पोस्टल बैलट का उपयोग किया है, जिसमें से 80 वर्ष से अधिक उम्र के 49 हजार 365, दिव्यांग श्रेणी के 11 हजार 656 एवं आवश्यक सेवाओं के 4 हजार 427 तथा मतदान प्रक्रिया में जुटे 3 लाख 71 हजार 166 मतदाता शामिल है।

श्री गुप्ता ने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि आयोग के निर्देशों की पालना करते हुए परिणाम बिना किसी त्रुटि एवं देरी के समय रहते घोषित किए जाएं। उन्होंने कहा कि मतगणना में पूर्ण निष्पक्षता सुनिश्चित करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा अपनाई जा चुकी ‘मैंडेटरी वैरीफिकेशन‘ पद्धति को भी लागू किया जाएगा। इसमें संपूर्ण मतगणना के बाद प्रत्येक विधानसभा के मतदान केंद्रों से लॉटरी से 5-5 वीवीपैट का चयन कर उसकी पर्चियों की गणना कर, ईवीएम से प्राप्त मतों से मिलान किया जाएगा।

आयोग की वेबसाइट और वोटर हेल्पलाइन एप पर भी देखे जा सकेंगे परिणाम

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि राजस्थान विधानसभा आम चुनाव-2023 के लिए 25 नवम्बर को हुए मतदान की 3 दिसम्बर को मतगणना समस्त जिला मुख्यालयों में स्थापित 36 मतगणना केन्द्रों में होगी। उन्होंने बताया कि मतगणना के राउन्ड-वाइज परिणाम प्रदर्शित किये जाएंगे।

सर्वप्रथम प्रात: 8 बजे से पोस्टल बैलेट की गणना प्रारंभ होगी। 8.30 बजे ईवीएम में दर्ज मतों की गणना प्रारंभ होगी। उन्होंने बताया कि विधानसभा आम चुनाव-2023 की मतगणना के परिणाम भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाइट https://results.eci.gov.in और वोटर हेल्पलाइन एप (VHA) पर देखे जा सकेंगे। वोटर हेल्पलाइन एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करना होगा। इसके अलावा https://ceorajasthan.nic.in पर भी मतगणना के परिणाम प्रदर्शित किये जाएंगे।