अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में 50 लोगों का किया सम्मान

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में 50 लोगाें का किया सम्मान
महिला सुरक्षा विषय पर आयोजित हुई कार्यशाला

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

झुंझुनूं 07 मार्च। महिला अधिकारिता विभाग एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की और से अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में सोमवार को सूचना केन्द्र सभागार में ‘‘ महिला सुरक्षा‘‘ विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जवाहर चौधरी ने कहा कि जिन महिलाओं को यह सम्मान मिला है वे समाज की अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणा है, उनसे अन्य महिलाओं को प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि महिलाऎं अपने अधिकारों के साथ-साथ कानून की भी जानकारी रखें, ताकि वे अपने स्वयं तथा समाज की अन्य महिलाओं को जागरूक कर सकें और समाज में सकारात्मक विचारधारा पैदा कर सकें। उन्होंने कहा कि महिलाएं अन्य लोगों से बात करते समय सचेत रहे वे बात करते समय नजर व नजरिया का विशेष ध्यान रखें, अगर उसे कुछ गलत लगे तो टोकने में परहेज नहीं करें।

झुंझुनू उपखण्ड अधिकारी शैलेश खैरवा ने कहा कि महिलाओं को अपनी सुरक्षा संबंधित कानूनों की जानकारी का अभाव रहता है। वे किसी ना किसी मजबूरी या डर के शोषण सहती रहती है। इसका खुलकर विरोध करना चाहिए। उन्होंने महिलाओं से अपील की कि वे कि घरेलू हिंसा नहीं सहें, अपने कानून की जानकारी रखें। उन्होंने बताया कि टेक्नोलोजी के समय में आज फोन एवं विभिन्न एप के माध्यम से कानून की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। उन्होंने कहा कि कार्य स्थल या अन्य जगहों पर होन वाली छेड़छाड़ की घटना का विरोध करें तथा गरिमा हैल्पलाईन या 100 नम्बर पर सूचना देकर काूनन की सहायता लेवें, यहां पर कॉल करने वाले की सूचना गुप्त रखी जाती है।

महिला एवं बाल विकास विभाग के उप निदेशक विजेन्द्र सिंह राठौड़ ने विभाग द्वारा गर्भवती महिलाओं के लिए संचालित योजनाओं की विस्तार से जानकारी दी। सीएमएचओ डॉ. छोटेलाल गुर्जर ने कहा कि समाज के उत्थान में महिलाओं की विशेष भूमिका है। उन्होंने अपने विभाग की ओर से कन्या भूर्ण हत्या को रोकने के लिए चलाए जा रहे कार्यक्रमों तथा मुखबीर योजना की जानकारी दी। अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी प्रमोद आबुसरिया ने कहा कि विद्यालयों में बच्चियों को गुड़ टच एवं बेड टच की जानकारी देनी चाहिए। इससे बच्चियाें को किसी अनहोनी का अंदेशा पहले ही होने में सहायता मिल सकेेगी। उन्होंन चुप्पी तोड़ो अभियान की भी विस्तार स जानकारी दी। महिला थाना प्रभारी मुनेशी मीणा ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए बनाए गए कानूनों के विभिन्न प्रावधानों की जानकारी प्रदान की। कार्यक्रम के दौरान एलडीएम रतन लाल वर्मा, पर्यावरण सुधार समिति के राजेश अग्रवाल भी अतिथि क रूप में उपस्थित रहें। महिला अधिकारिता विभाग के उप निदेशक विप्लव न्यौला ने बताया कि इस दौरान महिलाओं के क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य करने पर 23 तथा माता यशोदा सम्मान के तहत 27 महिला कार्मिकों का सम्मान किया गया। उन्हाेंने विभाग की विभिन्न योजनाओं एवं प्रतिकर योजना के बारे में विस्तार से बताया। सीडीपीओ ज्योति रेपस्वाल ने धन्यवाद ज्ञापित किया।