Headlines

Annapurna Food Packet Yojana 2023 |मुख्यमंत्री निशुल्क अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना से जुड़ी बड़ी खबर

Rajasthan Free Food Packet Yojana| Annapurna Food Packet Yojana 2023 | मुख्यमंत्री निशुल्क अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना | राजस्थान अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना | मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना | Annapurna Food Packet Yojana Rajasthan | फूड पैकेट योजना राजस्थान | mukhymantri free food packet Yojana | Rajasthan mukhymantri nishulk annpurna food packet Yojana | Rajasthan food packet Yojana | राजस्थान मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना

मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना 2023 क्या है?

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now


मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना 2023 की घोषणा राजस्थान की गहलोत सरकार द्वारा अगस्त 2023 में की गयी है। इस योजना के तहत राजस्थान राज्य के लगभग 1 करोड़ 6 लाख परिवारों को हर महीने निःशुल्क खाद्य सामग्री वाले पैकेट वितरित किए जाएंगे ।

राजस्थान सरकार द्वारा अप्रैल 2023 में Rajasthan Free Food Packet Yojana के माध्यम से राज्य के गरीब नागरिकों को फ्री खाने के सामान का पैकेट देने का ऐलान किया गया है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री निःशुल्क अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना को शुरू किया गया है।

City Physiotherapy Center Jhunjhunu

योजना के तहत बांटे जाने वाले हर पैकेट में 1 किलो चना, दाल, चीनी, नमक, 1 लीटर तेल, 100-100 ग्राम मिर्ची पाउडर, धनिया पाउडर तथा 50 ग्राम हल्दी हल्दी पाउडर होगा। इस तरह प्रत्येक पैकेट की कीमत तकरीबन 370/- रूपए होगी। राजस्थान सरकार के अनुसार राजस्थान फ्री फूड पैकेट योजना के माध्यम से प्रदेश में रहने वाले करीब 1.06 करोड़ से भी अधिक परिवारों को महंगाई से राहत मिलेगी। मुख्यमंत्री ने इसे आजादी का अन्नपूर्णा महोत्सव नाम दिया है साथ ही राशन डीलरों का कमिशन भी 4 रुपए से बढ़रकर 10 रुपए प्रति पैकेट कर दिया है। यह योजना “राजस्थान में कोई भी भूखा न सोए” के संकल्प को साकार करने में मदद करेगी।

मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना 2023 के लाभ एवं विशेषताएं

•इस योजना के माध्यम से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) के अंतर्गत आने वाले परिवारों को निशुल्क खाद्य सामग्री वाले पैकेट वितरित किए जाएंगे।

•इसमें उन परिवारों को भी मुफ्त में फ़ूड पैकेट दिए जायेंगे जिन्हें महामारी के दौरान 5,500/- की आर्थिक सहायता मिली थी।

•हर पैकेट में 1 किलो चना, दाल, चीनी, नमक, 1 लीटर तेल, 100-100 ग्राम मिर्ची पाउडर, धनिया पाउडर तथा 50 ग्राम हल्दी हल्दी पाउडर होगा।

•योजना के अंतर्गत वितरित किए जाने वाले प्रति पैकेट की कीमत ₹370 होगी।

•राजस्थान फ्री फूड पैकेट योजना के माध्यम से प्रदेश में रहने वाले करीब 1.06 करोड़ से भी अधिक परिवारों को महंगाई से राहत मिलेगी।

•इस योजना का लाभ प्राप्त करके प्रदेश के गरीब परिवार में भुखमरी तथा कुपोषण से छुटकारा मिलेगा।

•राजस्थान फ्री फूड पैकेट योजना का दूसरा नाम राजस्थान अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना भी है।

राजस्थान अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना 2023 अपडेट


राज्य सरकार ने 15 अगस्त 2023 से राजस्थान अन्नपूर्णा योजना की शुरुआत हुई । अन्नपूर्णा योजना के तहत सरकार लाभार्थियो को फ्री राशन के साथ ही फूड पैकेट वितरित किया।

जिसके अंतर्गत राज्य सरकार दाल, चीनी, नमक, तेल, धनिया, मिर्च और हल्दी पाउडर मुफ्त में हर महीने देगी। राज्य सरकार अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना के तहत हर साल 392 करोड़ रुपए का वहन करेगी।

अशोक गहलोत सरकार में शुरू की गई मुख्यमंत्री फूड पैकेट योजना के फूड पैकेट का वितरण दो महीने से बंद पड़ा है। इसकी वजह फूड पैकेट सप्लाई करने वाली कंपनी को दो महीने का भुगतान नहीं होना है। अब सरकार बदलने से पूर्ववर्ती सरकार की अन्य जनकल्याणकारी योजनाओं को लेकर भी संशय बन गया है।

दरअसल अशोक गहलोत सरकार की ओर से बजट में अन्नपूर्णा फूड पैकेट योजना की घोषणा की गई थी। इसके तहत अगस्त से खाद्य सुरक्षा योजना में जुड़े सभी परिवारों को निशुल्क फूड पैकेट वितरण शुरू किया गया। योजना के तहत अगस्त, सितंबर व अक्टूबर में पैकेट का वितरण हुआ, लेकिन अक्टूबर में आचार संहिता लगने के बाद फूड पैकेट पर मुख्यमंत्री का फोटो होने से इसके वितरण पर रोक लगा दी गई थी। हालांकि पैकेट पर से मुख्यमंत्री का फोटो हटाकर वितरण करने को कहा गया, लेकिन फूड पैकेट सप्लाई करने वाली कंपनियों को सितंबर-अक्टूबर का भुगतान नहीं किया गया। ऐसे में कंपनी ने झुंझुनूं समेत प्रदेश के अधिकांश जिलों में वितरण रोक दिया। यानी अक्टूबर के बाद नवंबर व दिसंबर माह में फूड पैकेट का वितरण नहीं हुआ।

अकेले झुंझुनूं जिले के 20 करोड़ रुपए हैं बकाया

मुख्यमंत्री निशुल्क फूड पैकेट योजना के लिए गहलोत सरकार ने जनवरी 2024 तक का बजट जारी किया था। फूड पैकेट का वितरण अगस्त से शुरू हुआ। एक महीने के वितरण का भुगतान हुआ। दो महीने से भुगतान अटक जाने से फूड पैकेट सप्लाई करने वाली कंपनियों ने हाथ खींच लिए। अभी तक भुगतान नहीं होने से मामला अटका हुआ है। अकेले झुंझुनूं जिले में सप्लाई करने वाली कंपनी के करीब 20 करोड़ रुपए अटके हुए हैं। जयपुर में कोष कार्यालय से होनाहै भुगतान

फूड पैकेट योजना वितरण के लिए जिला स्तर पर कलेक्टर की अध्यक्षता में कमेटी बनी हुई है। इसमें एडीएम, डीएसओ, सहकारी समितियां के संयुक्त रजिस्ट्रार समेत अन्य अधिकारी इसमें शामिल हैं। यहां से बिल पास कर ट्रेजरी के माध्यम से जयपुर भिजवाया जाता है। वहां से भुगतान होता है।